Saturday, July 21, 2007

Dil ki dhadkan

खेल ना समज़ ए सनम दिल के धड़कने को
के हर किसी को देख के नही लहराती बर्क़ सिने मे

1 comment:

Tosha said...

aacha likha hai :)