Wednesday, August 15, 2007

आरजू

हजारो ख्वाहिशे जगती है दिल मे एक तेरे ख़याल से
और आप है के पूछते हो के क्या आरजू है तुम्हारी

1 comment:

Rupesh said...

ati sundar.
rupesh.