Sunday, January 3, 2010

आ गये वो

चुपके से बज़्मे-ए-ख़्वाब,दिल में सजा गये वो
रंग किसी नशे के,मेरी हस्ती पे जमा गये वो
धडकनों से सजा रखी हैं मैंने,हर राह उनकी
संग मेरी ख़्वाहिशों के,मेरे घर तक आ गये वो

@ मनिष गोखले... 

1 comment:

Maria Mcclain said...

nice post, i think u must try this website to increase traffic. have a nice day !!!