Tuesday, March 10, 2009

दूर जाना मंजिल का...

फ़िर वोही ये दास्ताँ,फ़िर टूट जाना दिल का
दर्या के पास हो के प्यासा रह जाना साहिल का
कब तक चलेंगे यु ही सीतम अपनी किस्मत के
करीब आते आते हर पल दूर जाना मंजिल का

1 comment:

vishal said...

kya bat haiii ... masha aala..